Saturday, April 4, 2009

"मेरी जिंदगी है तु"


गम है या खुशी है तु,
मेरी जिंदगी है तु,


मुसीबतों के दौर में,
चैन की घड़ी है तु,

मेरी रात का चिराग,
मेरी नींद भी है तु,

मैं खिजा की शाम हूं,
रूत बहार की है तु,

मेरी सारी उम्र में,
एक ही कमी है तु,

मैं तो वो नहीं रहा,
हां! मगर वो ही है तु...।