Monday, March 23, 2009

"तेरी याद आती है..."


जब चांदनी बढ़ कर, रातों पे छाती है,


तेरी याद ऐसे में दिल को तड़पाती है,


किस्से वो बहारों के, बीते नजारों के,


फिर आ के सुनाती है, और हम को रूलाती है,


तेरी याद बहुत आती है......